Bhagavan

History Of Indian Gods | भारतीय देवताओं का इतिहास

Gareebi shayari | गरीबी पर शायरी

Gareebi Shayari. Gareebi kitni dukh se bhari hoti hai yeh bat sab sab jante hain. Gareebi par shayari humne niche di hui hai.

Aasha karte hain aapko ye arur pasand aayenge.

गरीब का मजाक पैसे का घमंड

Gareebi shayari

उस गरीबी से बचो जो मायूस कर देती है,

और उस दौलत से बचो जो मगरूर कर देती है।

uss gareebi se bacho jo mayoos kar deti hai,

aur uss daulat se bachho jo magroor kar deta hai.

_____________________________

अमीर और गरीब पर शायरी Love

मेरे गुरबत ने उडा़या है मेरे फन का मजाक,

तेरी दौलत ने तेरे ऐब छुपा रखे हैं।

mere gurbat ne uadaya hai mere fan ka mazaq,

teri daulat ne tere aib chhupa rakhe hain.

_____________________________

गरीब और अमीर की कविता

टूट जाता है गरीबी में वो रिश्ता जो खास होता है,

हज़ारो यार बनते हैं जब पैसे पास होते हैं।

toot jata hai gareebi me wo rishta jo khaas hota hai,

hazaaro yaar bante hain jab paise paas hote hain.

_____________________________

गरीबी पर शेर

शायरी लिख रही थी गरीबी पर,

कलम ही बेचनी पड़ गई आखिर।

shayeri likh rahi thi gareebi par,

kalam hi bechni pad gyi akahir.

_____________________________

अमीर और गरीब पर कविता

वक़्त के एक तमांचे के देर है आसफ़ी,

मेरी गरीब भी क्या, और तेरी बादशाही भी क्या।

waqt ke ek tamache ke der hai asfi,

meri gareebi bhi kya, aur teri badshaahi bhi kya.

_____________________________

garib ki bhukh shayari

गरीब शहर तरस्ता है एक निवाले को,

अमीर शहर के कुत्ते भी राज करते हैं।

gareeb shaher tarasta hai ek niwale ko,

ameer shaher ke kutte bhi raaj karte hain.

_____________________________

gareebi love shayari

बल सूरत और गरीब मर्द से मुहब्बत करना,

हर औरत के बस की बात नहीं।

bad surat aur gareeb mard se muhabbat karna,

har aurat ke bas ki baat nahi.

_____________________________

झोपड़ी पर शायरी

बड़ा शौक था उन्हे मेरा आशियाना देखने का,

जब देखी मेरी गरीबी तो रास्ता बदल लिया।

bada shauq tha unhe mera ashiyana dekhne ka,

jab dekhi meri gareebi to rasta badal liya.

_____________________________

गरीबी पर दोहा

एक आस है ऐसी बस्ती हो,

जहां रोटी ज़हर से सस्ती हो।

ek aas hai aisi basti ho,

jahan roti zehar se sasti ho.

_____________________________

गरीब की ईद पर शायरी

कपड़ो की दोकान से दूर चंद  सिक्के गिन्ते गिंते,

मैं ने एक शाख्स की आंखों में ईद को मरते देखा।

kapdo ki dokaan se door chand chand sikke ginte ginte,

main ne ek shakhs ki aankho me eid ko marte dekha.

_____________________________

amiri garibi shayari in hindi

रोटी अमीर शहर के कुत्तो ने छीन ली,

फाका गरीब शहर के बच्चो में बंट गया,

चेहरा बता रहा था उन्हे मारा है भूक ने,

हाकिम ने ये कहा की कुछ खा के मर गया।

roti ameer shaher ke kutto ne cheen li,

faqaa qareeb shaher ke bachho me bat gya,

chehra bata raha tha unhe mara hai bhook ne,

hakim ne yeh kaha ki kuch khaa ke mar gya.

_____________________________

गरीबी पर अनमोल वचन | amir ladki garib ladka shayari

बड़ी जल्दी सीख लेता हूं जिंदगी का सबक,

गरीब बच्चा हुं बात बात पर ज़िद नहीं करता।

badi jaldi seekh leta hun zindagi ka sabaq,

gareeb bachha hun baat baat par zid nhi karta.

_____________________________

गरीबी पर अनमोल वचन status

मुहम्मद (S.W) के सहाबी का वो शाना याद आता है,

बदल कर भेस गलियों में वो जाना याद आता है,

इस अहद पर की जब माएं आटे को तरसती हैं,

उमर तेरी खिलाफत का ज़माना याद आता है।

muhammad (S.W) ke sahabi ka wo shaana yad ata hai,

badal kar bhes galiyo me wo jana yaad ata hai,

iss ahed par ki jab mayen aate ko tarasti hain,

umar teri khilafat ka zamana yaad ata hai.

_____________________________

poor shayari in english | garib ka koi dost nahi hota shayari

जिन्के आंगन में गरीब का शजर हो मुहसिन,

उनकी हर बात जमाने को बुरी लगती है।

मुहसिन तक्वा

jinke angan me gareebi ka shajar ho muhsin,

unki har baat zamane ko buri lagti hai.

muhsin taqwa

_____________________________

garib motivational shayari

कभी भी अपनी दौलत और ताकत पर घमंड ना करना,

ग़रीबी और बीमरी आने में देर नहीं लगती।

kabhi bhi apni daulat aur taqat par ghamand na karna,

gareebi aur beemari ane me deri nahi lagti.

_____________________________

sad garibi shayari | poor shayari in hindi

बिलकते भूक से चेहरे कभी महताब नहीं रहते,

अगर पानी ना मिले तो फूल भी शादाब नहीं रहते,

ग़रीबी छीन लेती है हुस्न ए इखलाक कि दौलत,

जहां अफलास हो तहजीब के अदाब नहीं मिलते।

bilakte bhook se chehre kabhi mahtaab nahi rahte,

agar pani na mile to phool bhi shadab nahi rahte,

gareebi chheen leti hai husn e ikhlaaq ki daulat,

jahan aflaas ho tahzeeb ke adaab nahi milte.

_____________________________

maa baap ki garibi shayari

यूं न झांको गरीब के दिल में,

जहां हसरतें बे लिबास रहती हैं।

yun na jhanako gareeb ke dil me,

jahan hasrten belibaas rahti hain.

_____________________________

गरीब की मुस्कान शायरी

मैं जब किसी गरीब को हंसते हुए देखता हूं तो,

यकीन आजता है कि खोशियां दौलत से नहीं मिलती।

main jab kisi gareeb ko hanste hue dekhta hun to,

yakeen ajata hai ki khoshiya daulat se nahi milti.

_____________________________

gareebi shayari in hindi

जब ईद होगी हम क्या पहनेंगे,

चांद से कह दो अभी तय्यार नहीं हम।

jab eid hogi ham kya pahnenge,

chaand se kah do abhi tayyar nahi ham.

_____________________________

गरीबी पर शायरी | garib love shayari in english

आँसू बहा बहा के होते नहीं कम असफ़ी,

कितनी अमीर होती हैं आंखें गरीब की।

aansoo baha baha ke hote nahi kam asfi,

kitni ameer hoti hain ankhen gareeb ki.

_____________________________

गरीब लव शायरी  | garib love shayari in hindi

हम लाख अच्छे हैं दुनियादार लोगो से वसी,

हम अपने ख़्वाब तोड़ते हैं किसी का दिल नहीं।

ham laakh achhe hain duniyadar logo se wasi,

ham apne khwaab todte hain kisi ka dil nahi.

_____________________________

गरीब और अमीर दोस्त की शायरी

उसको मिल गए उसके मियार के लोग,

मेरी गरीबी मेरी मुहब्बत की क़ातिल निकली।

usko mil gye uske miyaar ke log,

meri gareebi meri muhabbat ki qatil nikli.

Must Read: Emotional Sad Shayari 2022 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bhagavan © 2022 Frontier Theme